एमजे अकबर मानहानि मामले में कोर्ट ने लिया संज्ञान, 31 को होगा बयान दर्ज

M J Akbar

नई दिल्ली, 18 अक्टूबर (वेबवार्ता)। पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर की तरफ से पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ दायर आपराधिक मानहानि मामले में पटियाला हाउस कोर्ट स्थित विशेष अदालत ने गुरुवार को संज्ञान लिया। अदालत ने कहा कि 31 अक्टूबर को शिकायतकर्ता एमजे अकबर का बयान दर्ज किया जाएगा और कोर्ट उसी दिन इस मामले को सुनेगी। एमजे अकबर कोर्ट में पेश नहीं हुए। उनकी तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता गीता लूथरा ने एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल की अदालत में मामले से संबंधित जानकारी दाखिल की। अदालत को पूरे प्रकरण से अवगत कराते हुए कहा कि ट्वीट और सोशल मीडिया के पोस्ट याचिकाकर्ता की छवि को खराब कर रहे हैं। अब अगर अदालत संतुष्ट हुई तो शिकायतकर्ता और गवाहों के बयान दर्ज करने के बाद प्रिया रमानी को नोटिस जारी सकती है।

सोमवार को अकबर की तरफ से प्रिया रमानी के खिलाफ आपराधिक मानहानि का केस पटियाला हाउस कोर्ट में दायर किया गया था। उन्होंने अर्जी में कहा है कि उनके खिलाफ झूठी कहानियों की एक श्रृंखला एक एजेंडे की पूर्ति के लिए प्रेरित तरीके से प्रसारित की जा रही है। उनकी छवि खराब करने के लिए रमानी ने दुर्भावनापूर्ण रूप से झूठी कहानी का सहारा लिया है, जोकि मीडिया में फैल रही है। इससे न सिर्फ उनकी पारिवारिक बल्कि राजनीतिक छवि पर भी बुरा असर पड़ रहा है। बुधवार को उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। एमजे अकबर ने अपने इस्तीफे में कहा था कि उन्होंने न्याय के लिए व्यक्तिगत तौर पर केस दायर किया है। इसलिए अपने पद से हटकर खुद पर लगे झूठे आरोप का सामना करना चाहते हैं।

गौरतलब है कि ट्विटर पर ‘मी टू’ अभियान के तहत एमजे अकबर के साथ करीब बीस साल पहले काम कर चुकीं पत्रकार प्रिया रमानी ने उन पर यौन दु‌र्व्यवहार का आरोप लगाया है। अन्य महिलाओं ने भी इस अभियान के तहत ट्विटर पर ही अकबर पर ऐसे ही आरोप लगाए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *