एससी-एसटी एक्ट संशोधन के विरोध में रेल रोककर प्रदर्शन

Bharat_bandh_1522637571

कानपुर, (वेबवार्ता)। एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में सवर्ण वर्ग के संगठनों की ओर से गुरूवार को भारत बंद के आह्वान पर कानपुर जनपद में बड़ी सं या में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए। सुबह से ही बाजारों में भीड़ ने दुकानों को बंद कराते हुए पनकी रेलवे स्टेशन पर रेल रोक कर प्रदर्शन शुरू कर दिया। आक्रोशित भीड़ को देख पुलिस बल भी बेबस दिखा।

एससी-एसटी एक्ट में हुए संसोधन के विरोध करते हुए भारत बंद का गुरूवार को व्यापक असर कानपुर जिले में देखने को मिला। सुबह ग्रामीण क्षेत्र चौबेपुर में विरोध के लिए भारी भीड़ उतर आई और जीटी रोड पर बनी सभी दुकानों को बंद कराना शुरू कर दिया। इस बीच दुकानदारों से भीड़ में शामिल लोगों से नोकझोंक भी हुई। लेकिन भीड़ के आगे उन्हें झुकना पड़ा। यहां पर करीब दो किलोमीटर ल बे रास्ते में संसोधन बिल एक्ट के विरोध में उतरे लोगों ने घूम-घूमकर बाजार बंद कराया और नारेबाजी की।

एक्ट संसोधन का विरोध कर रहे लोगों की भीड़ पनकी में बाजार बंद कराने के बाद रेलवे स्टेशन पहुंच गई। यहां पर प्लेटफार्म पर जैसे ही यात्री ट्रेन चली भीड़ में शामिल लोग दौड़कर पटरी व इंजन पर चढ़ गये। जिससे चालक घबरा गया और गाड़ी रोक दी। भीड़ ने पटरी व इंजन पर खड़े होकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस बीच पहुंची जीआरपी व रेलव सुरक्षा बल के जवानों ने उन्हें हटाने का प्रयास किया तो टकराव की स्थिति बन गई। लेकिन भीड़ में शामिल लोगों की सं या को देखते हुए जवान बैकफुट पर आ गए। ट्रेन रोककर प्रदर्शन कर रहे लोगों को समझाने रेलवे व सुरक्षा बल के अफसर पहुंचे और काफी मशक्कत के बाद पटरी से प्रदर्शनकारियों को हटाया जा सका। जिसके बाद गाड़ी आगे के लिए रवाना हो सकी।

भारत बंद का जनपद के मुख्य बाजारों में व्यापाक असर देखने को मिला। ऐसा इसलिए भी कि बंदी की आड़ में कही अराजक तत्व लूटपाट व तोडफ़ोड़ न कर दें। जिले का नवीन मार्केट, बिरहाना रोड, मेस्टन रोड, शिवाला बाजार, मनीराम बगिया, मूलगंज मार्केट, लाटूश रोड मार्केट, सीसामऊ बाजार, रावतपुर, कल्याणपुर के मुख्य बाजारों में दुकानें बंद रहीं। हालांकि फुटकर व दवा सहित खानपान की दुकानों को इस बंदी में शामिल नहीं हुए और रोजना की इस तरह दुकानें खोली रहीं। भारत बंदी की आड़ में कई जगहों पर उत्पात व अराजकता फैलाने वालों से निपटने के लिए पुलिस बल व प्रशासनिक अफसर भी बाजारों में गश्त करते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *